हिंदी बीएफ पेली पेला

छवि स्रोत,भोजपुरी हॉट सेक्सी

तस्वीर का शीर्षक ,

मारवाड़ी चुदाई वीडियो: हिंदी बीएफ पेली पेला, पर आाप साहिबान ने सपोर्ट कर मेरा हौसला बढ़ाया, शुक्रिया।जीजाजी भी सुन रहे थे, मैंने उनकी ओर देखा, मुस्करा दिया।हम जीप से स्टेशन पंहुचे, मैं उतरा, दिनेश बोला- भाई साहब! आपके साथ दिन गुजरा याद रहेगा।मैं- दिनेश भाई! मुझे भी आप हमेशा याद रहोगे, आपके साथ बहुत मजा आया.

सुहाग रात xxx

बिंदु ने उससे कहा कि अगर वो तुमको मिल जाए तो क्या उसके साथ ये सब करोगे या नहीं. पेशाब करती हुई वीडियोमेरा पूरा परिवार शादी से पहले मेरी भाभी जी से और उनके घर वालों से मिल चुका था.

अन्तर्वासना के सभी पाठकों को मेरा प्यार भरा नमस्कार! यह मेरे भैया भाभी की सुहागरात की कहानी है. ब्लू फिल्में सेक्सी वीडियोहम तीनों वहां गये और रूम के लिए पूछा लेकिन वहां एक भी रूम खाली नहीं था।फिर मैंने ताऊ जी को फोन किया तो ताऊ जी ने कहा- तुम जहाँ हो, वहां से 2 किलो मीटर पीछे एक छोटी लॉज है, शायद वहाँ कोई कमरा मिल जाये!तो हम बारिश में भीगते हुए 2 किलो मीटर वापस आ गये, वहां उस एक लॉज पर रुक गए लेकिन हमें एक ही रूम मिला, वो भी सिंगल बेड! मजबूरी में हमने वही कमरा ले लिया.

सोनिया ने मेरे करीब बैठते हुए कहा- डॉक्टर साब… तो कर दो न मेरा इलाज.हिंदी बीएफ पेली पेला: गेट के पास आकर भाबी ने मुझे फिर से चूमा… तो मैंने भि भाभी के चूतड़ अपने दोनों हाथों में पकड़ कर उनके होंठों को अपने होंठों में ले लिया और 2-3 मिनट तक प्रगाढ़ चुम्बन किया.

नहा कर क्या मेरा कत्ल करोगी? वैसे ही नियत खराब हो रही है तुमको कच्चा खाने का मन हो रहा है.अभी यहां तो दोस्त भी तुम हो, साले भी तुम, रिश्तेदार भी तुम! इसलिए दोस्ती वाली बातें कर रहा हूं.

दोनों की चुदाई - हिंदी बीएफ पेली पेला

लालजी बोला- अरे वन्द्या मैं बोल नहीं सकता तुमसे, क्या बताऊं?मैं उसके और नजदीक चली गई.दोस्तो, आपको यकीन नहीं होगा कि वो मेरे लंड को ऐसे चूस रही थी, जैसे मानो किसी अच्छे को कोई लॉलीपॉप मिल गई हो.

फिर उसने अपने खड़े लंड को चूत के मुँह पर रखकर एक बहुत जोर का झटका मारा. हिंदी बीएफ पेली पेला फिर फूफा जी ने मेरी टाँगें ऊपर उठाते हुए अपने तना हुआ लंड मेरी चूत के मुँह पर रखा और एक ही झटके में आधा लंड मेरे अंदर घुसेड़ दिया.

तुम्हारे दूध को पकड़ सकता हूँ?उसने कहा कि तुम पकड़े हुए ही हो और कैसे पकड़ना है?मैंने कहा- मतलब मैं इनको देख सकता हूँ.

हिंदी बीएफ पेली पेला?

तू बहुत ही बड़ा चोदू है कुत्ते!जीजा हंसते हुए बोला- साली रंडी सब जान जाती है. मैंने ओके कहा और वो मेरे पैरों के बीच में आ कर जोर से लंड चूसने लगी. मैंने देखने की कोशिश की कि क्या वो गहरी नींद में है या नहीं, वो सच में सोई हुए थी.

वे दोनों माशूक लौंडे क्या यहीं लेटे हैं?”दूसरा- हाँ, तू किसे पूछ रहा है?मुझे चाहिये।”फिर मुझे लगा कि मेरे कम्बल में कोई घुसा, मैं ठंड के मारे करवट से पैर सिकोड़े लेटा था, कोई मेरी पीठ से चिपक गया, उसने अपनी एक जांघ मेरे कूल्हों पर रखी और अपना लंड निकाल कर मेरे पिछवाड़े रगड़ने लगा. चुदाई के बाद हम लोग फिर से नहाए और माँ बेटी ने मिलकर मुझे फिर पूरा चूमा और मुझे काफी रुपए देकर कहा- जब बुलाएं आ जाना. अगले दिन कुछ 4-5 लोगों की फ्रेंड रिक्वेस्ट आई, मैंने एक्सेप्ट की और मैसेज भी कर दिए ताकि अगर उन्हें जरूरत हो तो वो मुझे सेवा का मौका दे दें.

मेरे अंडरवियर के ऊपर से पहले लंड का चुम्बन ले कर मेरी अंडरवियर निकाल फेंकी, अन्दर से मेरा लंड उछल कर उसके सामने आ गया. पद्मिनी के बाप ने हल्के से अपने हाथों को पद्मिनी के गांड पर फेरते हुए अपने हाथ को ऊपर की तरफ ले जाता गया. आपको ये मदमस्त चुदाई की कहानी कैसी लगी, बताने के लिए मुझे मेल जरूर करें, मेरी मेल आईडी है.

उसकी आंखें बंद हो गईं तो मैंने एक हाथ से नीचे लंड को एडजस्ट किया और फिर उसके मम्मों पर हाथ ले गया. हम दोनों ने अपने अपने पार्ट्स को साफ करने की बात का खूब प्लान बनाया, फिर उस दिन का इंतज़ार करने लगे.

उसने गुस्से से चोकोलेट फेंक दिया और कहा- मैंने ये नहीं लाने को कहा था.

खैर चाची तो यह भी नहीं जानती थीं की ये है कौन और ना मैडम को पता कि इतनी भीड़ में चाची कौन?लेकिन जब मैं सुकून से कहीं बैठा होता तो अगल बगल से किसी खजैले कुत्ते की तरह देखतीं.

मैं सोचने लगा कि भाभी जी अन्दर कैसे आ गईं, फिर याद आया कि रात को हमने डोर बंद तो किया था मगर लॉक नहीं किया था. मैं- उसको किसको?भाभी- अपने लंड को…फिर मैं भाभी को चोदने के लिए उनकी चुत के ऊपर आ गया और अपने लंड को उनकी चुत पर सैट करके चुत में लंड डालने लगा. हम दोनों ने अपने अपने पार्ट्स को साफ करने की बात का खूब प्लान बनाया, फिर उस दिन का इंतज़ार करने लगे.

मैंने उसे अपना लंड चूसने को कहा लेकिन उसने मना कर दिया, वो बोली- नहीं… मैं नहीं चूसूँगी… मुझे अच्छा नहीं लगता क्योंकि इसमें से पेशाब निकलता है. चूत में लोढ़े(मूसल) से मोटे लण्ड का एहसास होते ही सुकन्या रानी चिहुंक सी गयी और चीख पड़ी- आउच ह्ह्हम्म्म …और मेरा मोटा पिस्टन उसकी नाज़ुक सी टाइट चूत को फाड़ने लगा, फच फच फच बस यही सुर लगने लगे. फिर मैं अपनी बहन की चुची चूसने लगा और उसकी चूत में उंगली भी कर रहा था.

मैंने उसको ये भी कहा कि तुमको मैं इस जानकारी के लिए अलग से बोनस दूँगी, जिसका किसी को भी पता नहीं लगना चाहिए.

वो उम्र में उन दोनों से छोटी और एक लाजबाब हुस्न की मालिका थीं तो मेरा लिंग उन्हें 6-7 सेकेण्ड देखने पर ही खड़ा होने लगा. मैंने उसे लंड पर लगा खून दिखाया, तब वो शर्मा कर मेरे सीने से लिपट गई. वो मुस्कुराई- इतना मत सोचना, प्यार ना हो जाए कहीं अपनी बहन से ही!मैं भड़क गया- तुम मेरी बहन नहीं हो!वो हँसने लगी- ओह, लगता है मैंने कुछ ज़्यादा ही तड़पा दिया दिन में… मेरे पास आओ!मैं बेड से उठ कर उसके पास गया.

अब उससे और बर्दाश्त नहीं हो रहा था, वो उठी और उसने मेरा अंडरवियर निकाल कर फेंक दिया. उधर दीदी ने गिलास निकाल कर रखे और जीजा को नंगा देखा तो वो खुद भी पूरी नंगी हो गईं. सुबह जब प्रदीप उठा तो मैंने उसे बहुत डांटा कि इतनी दारू क्यों पी ली थी.

मेरा लंड उसकी चूत के छोटे कांटे जैसे बालों को टच कर रहा था मानो किसी कंटीले पार्क में हो.

मैं- मतलब आपको रफ़ सेक्स पसंद है?सुकन्या- केवल पसंद होने से क्या होता है?मैं- तो जल्दी समय निकालिये न, प्रैक्टिकल भी हो जायेगा. दोस्तो, यह थी मेरी और मेरी गर्लफ्रेंड की मां जागृति आंटी की चुदाई की कहानी!इस चुदाई के बाद अब तक मैंने और दो भाभियों और एक आंटी को भी चोदा है पर मेरी प्यारी गर्लफ्रेंड नेहा को अभी तक चोद नहीं पाया हूं, बस उसके होंठ चूम कर और चूचियां दबा कर ही संतोष कर लेता हूं.

हिंदी बीएफ पेली पेला मैं एक बड़ी कंपनी में अच्छी पोस्ट पर हूँ, इस वजह से काम बहुत रहता है. उसके होंठ ऐसे लग रहे थे कि किसी कमल के फूल की पंखुरियां हों और उसके गाल मखमल की तरह सुर्ख लाल से थे.

हिंदी बीएफ पेली पेला मॉम भी मदमस्त होकर नवीन का सर पकड़े हुए अपने चुचे नवीन के मुँह में ठूँसे जा रही थीं. बापू ने पेंटी उतार कर उसकी चूत को चाटा और देखकर हैरान हुआ कि चूत एकदम भीगी हुई थी.

किस करते करते कब मेरा हाथ उसकी चूची को दबाने लगा, मुझे पता भी नहीं लगा.

हेमा मालिनी की नंगी फोटो

मैंने उसे आँखों से इशारा किया कि मेरे लंड को पकड़ कर अपनी चूत के छेद में टिकाये. तो मैंने उसे नाम, जगह और संबंधित एक्टिविटीज बदल कर सुना दी, जिससे गौसिया की आइडेंटिटी कहीं से भी जाहिर न हो।वह मुतमइन हो गयी. जब दीदी नहा कर अपना बदन पोंछने लगी तो मैंने देखा उसके शरीर पर कुछ चकत्ते से निकल रहे हैं.

नैना भी मेरे सिर को चुत में दबाते हुए मजे लेते हुए कहे जा रही थी- अह्ह. थोड़ी देर के बाद मेरे लंड ने पिचकारी मारनी चालू कर दी और भाभी की चुत अपने रस से भर दी. ” वह बोला।अच्छा…” मैं सुनते हुए बोली- तो मेरा एक काम करोगे?मैंने पूछा।का मेमसाब?” उसने मुझे पूछा।मुझे सीमा के घर छोड़ दो, और वहीं से तुम चले जाओ.

पर आप लोग अभी देखना बहू कैसे हंस हंस कर मजे मजे ले ले कर चुदतीहै इसी लंड से.

मेरे सामने तरफ पीयूष बैठ गया और पीछे लाल जी दोनों मेरे बदन से चिपक गए. फिर रात में मैं डिनर करने नहीं गया, मुझे पता था भाभी जी बुलाने जरूर आएंगी. मैं उसे जल्दी से उसके होटल छोड़ने निकल गया, रास्ते में हमने किस किए.

तुम क्या कर रही हो?उसने कहा- मैं अपनी चूत में उंगली कर रही हूँ, तुम्हारे लंड की गर्मी याद आ रही है. किचन में नाश्ते की अच्छी सुगंध आ रही थी, जैसे कि अभी अभी नाश्ता बना हो. मैंने भाभी को पटाया भी है और उनके घर में जा कर उन्हें चोद भी दिया है.

मैंने उसका एक पैर पकड़ा हुआ था और दूसरा पैर उसने थोड़ा ऊपर कर रखा था. सिसकारियाँ लेते हुए रेखा रानी ने इसी प्रकार प्रसन्नतापूर्वक अपने दोनों पैर चटवाये.

जानते हैं भाईजान मेरी 5 फ्रेंड हैं, जिनमें से 3 का अपने बड़े भाई से और एक का अपने छोटे भाई से चक्कर है. फिर मैंने पास में रखे गद्दों के ढेर पर मोटी वाली को लिटाया और उसकी टांगों को एक दूसरे से दूर करते हुए उसकी योनि को खोला इसकी योनि पर भरपूर बाल थे. अपनी दो जवान बहनों को इस अधनंगी हालत में देख कर मेरा सात इंच का लंड पत्थर से भी ज्यादा कड़क और टाइट हो गया, उसे मैंने अपने हाथ से नीचे दबा लिया ताकि वो कुछ गलत न समझे.

फिर जब उस ने मेरी अंडरवियर को धीमे से नीचे खींचा तो मेरा लंड स्प्रिंग की टेंशन की तरह उछल कर 90 डिग्री पर खड़ा हो गया.

उनकी पकड़ मेरे पीठ पे कमजोर होती जा रही थी, लेकिन उनके पैर अभी भी मेरे शरीर को जकड़े हुए थे. अब मैं पूजा के पूरे नंगे बदन को देखने लगा, मेरी बहू बहुत खूबसूरत है, गोरी है, चिकना बदन है, उसकी चूचियां सामान्य आकार की शायद 32 इंच की होंगी, सांची के स्तूप की भान्ति या ताजमहल के गुम्बद की तरह से तनी खड़ी थी. पहले दो मिनट तक मैंने अपने लौड़े से बहन की चूत की रगड़ाई की और एक झटका लगा दिया, जिससे मेरा आधा लवड़ा सोनिया की चूत में समा गया.

मैं लेट कर साँस लेती थी और हर सांस के साथ चूत को अन्दर की तरह करती थी, जिससे कि वो सिकुड़ जाए. मैं उनके रूम की खिड़की के पास चली गई, जो पूरी खुली थी और उस पर पर्दा लगा हुआ था.

मेरे हाथ में मेरा मोबाइल था तो जब उनके बच्चे को दिख गया और वो जिद करने लगा. उसने अपनी पैंटी को अपने हाथ से साइड में करके मेरी जीभ को अपनी चूत पर लगाने के लिए जगह बना दी. बस दस झटकों के बाद तेज पिचकारियों के साथ दोनों के मुँह में वीर्य की बौछार कर दी, जिसे दोनों ने बड़े प्यार से पी लिया और ऊऊऊ यम्मी कम…” करते हुए दोनों आपस में किस करके मेरे वीर्य को चाटने लगीं.

भोजपुरी लड़की के सेक्सी वीडियो

मुझे ये स्थिति बहुत पसंद है जब झड़ी हुई योनि को पेलो तो!वो पहले तो चिल्लाएंगीं जिससे मेरा जोश बढ़ेगा.

मेरे इन झटकों से उसे कितनी खुशी मिल रही थी, यह उसकी आह भरी सिसकारियों में महसूस कर रहा था. वह सुबह तैयार हो कर शाजिया अप्पी और सुहैल को ले कर चली गयीं और पीछे रह गयीं तो हम दोनों योनियां।और अगले घंटे में ही शैतान की तरह समर मुसल्लत हो गया था। हालाँकि उसने पूछने पर बताया कि उसे शाजिया अप्पी से बात करने की हिम्मत ही नहीं पड़ी थी और न ही मौका मिल पाया था. फिर पूजा खुद बोली कि अमित आज तक मैंने इतनी सेक्सी सेक्स नहीं किया और तुम्हारी सबसे अच्छी बात ये है कि जो तुम सेक्स करने के बाद मुझसे चिपके रहे.

ठीक मेरे सामने और मैं बड़े गौर से उसे देखने लगी।वह भी उस पागल की तरह अर्धउत्तेजित अवस्था में था. अब भी कभी कभी बात हो जाती है तो बोलती हैं कि बहुत मिस करती हूं तुम्हें. सेक्सी भोजपुरी सेक्सी भोजपुरीमैं चिल्लाया- आ… आ… ई… ई…उसने एक हाथ से मेरा मुंह बंद किया और पूरा पेल दिया, मुझे धक्का देकर औंधा किया और मेरे ऊपर चढ़ बैठा और शुरू हो गया धक्कम पेल… धक्कम पेल…वह पूरे जोर से लंड पेल रहा था, लगता था जैसे गांड फाड़ ही डालेगा.

अधिकतर मामलों में यही होता है।पर मेरा सवाल यह है कि लौंडेबाज जाने कैसे किसी भी माशूक लौंडे को देख कर समझ जाते हैं कि कि यह पट जाएगा और उसकी मार कर ही दम लेते हैं. लंड का सुपारा अन्दर जाते ही भाभी की हल्के से चीख निकल गयी, अगर कहीं भैया ने भाभी के होटों को अपने होटों से बंद नहीं किया होता तो भाभी की चीख शायद दूसरे कमरों तक़ भी चली जाती और कोई ना कोई जरूर उठ जाता।फिर भैया दो मिनट तक रूके रहे और भाभी के स्तन चूसने लगे व निप्पल पर काटने लगे.

लालजी ने रजाई को लाकर वहीं फर्श पर बिछा दिया और मुझसे बोला- चल वन्द्या, तू रजाई में लेट जा, आज तुझे चोद चोद कर पागल कर दूंगा. पहले उसने अपना पजामा उतारा, जिससे उसकी नंगी टांगें दिखाई देने लगीं. पहले तो मैंने उनकी चूत को मुँह में भरकर खूब चूसा, फिर अपनी जीभ को चूत के अन्दर-बाहर करने लगा.

अन्तर्वासना के सभी पाठको को मेरा नमस्कार!यह कहानी मेरे और मेरी मौसी के बीच शुरू हुए चुदाई के सफ़र की है।यह मेरी पहली कहानी है अतः कोई गलती हो तो माफ़ करें।दोस्तो, मेरा नाम राहुल (बदला हुआ) है, मैं कानपुर का रहने वाला हूँ, मेरी उम्र 22 साल है, मेरी लम्बाई 5. फिर अपना मशहूर लंड निकाला और दिनेश से कहा- उस ताक से तेल की शीशी ला।वह लाया तो मैंने कहा- दिनेश, तू साहब के लंड पर तेल लगा।दिनेश हल्के हल्के से लगा रहा था, जीजाजी मुस्कराए, तो मैंने कहा- दिनेश भाई! लंड पर तेल कस कर रगड़ कर लगाते हैं, दो तीन सड़का मार।तब उसने उनका लंड रगड़ा, अब वह तन गया था. फिर उसने लिंग को लार से भी चिकना किया ही होगा।वह योनि की कसी दीवारों पर दबाव डालता अंदर तक धंस गया और दीवारें चरमरा कर रह गयीं। दर्द हो रहा था, यह अपनी जगह सच था लेकिन दिमाग पर चढ़ा नशा इतना गहरा था कि दर्द पर हावी हुआ जा रहा था।फिर वह खुद भी लद गया मुझपे और उसने अहाना को हटा दिया.

तभी मेरा मुठ निकला और इतना तेज गति से निकला कि उसकी बेटी मेरे सामने थी, उसकी चुची पर पिचकारी लगी.

मेरे नीचे वाले फ्लोर मतलब ग्राउंड फ्लोर पे भी परिवार ही रहते थे लेकिन फर्स्ट फ्लोर पे जाने का रास्ता एक ही था, जो नीचे वाले वॉशरूम के बगल से होकर जाता था. अगले रोज मैं सुबह 10 बजे बैंक चला गया और जब 11 बजे के करीब आया तो भाभी जी के पास हिमानी की मम्मी सुजाता बैठी बातें कर रही थी.

मनोहर बोला- दिनेश, तू वन्द्या के मुँह में अपना लौड़ा डाल के मुँह की जबरदस्त चुदाई कर. वो अपनी उंगलियों को तेज़ तेज़ मॉम की चुत में अन्दर बाहर कर रहा था… और मॉम नवीन का सर पकड़े हुए आह. थोड़ी देर बाद जैसे ही उनकी योनि ने पानी छोड़ा, मैंने बिना कुछ पूर्व सूचना के अपना लिंग उसकी गहराइयों तक एक ही झटके में उतार दिया.

फिर मजा आने लगता है, फिर शौक हो जाता है फिर बिना मराए चैन नहीं पड़ता।यह अलग बात है कि दोस्त कभी कभी उस दोस्त को खुश करने के लिए उससे भी खुद गांड मरवाते रहते हैं। उसे किसी और चिकने की दिलाते हैं और वह लौंडा लौंडेबाज भी हो जाता है. सगाई हो गयी तो अम्मी अब्बू ने बुलाया और कहा- बेटा आमिर, नूरी खाला से तो तुम मिल ही चुके हो, एक जरूरी काम से तुम्हें नूरी खाला के पास कश्मीर जाना होगा, उनका बहुत जरूरी काम है हम शादी बीच में छोड़ कर जा नहीं सकते और वहाँ जो खाला कहें, वह हमारा हुक्म मान कर पूरा करना. सुबह सुबह का समय था, पापा ने मुझे सीट पर बैठा दिया और मेरे मुंह में अपना लंड घुसा दिया और बोले- मेरी जान तुम पॉटी भी करती रहो और मेरा लंड भी चूसती रहो, आज मैं सारा दिन तुम्हें चोदूंगा इसलिए सुबह से ही शुरुआत कर रहा हूं!मैंने कुछ देर तक पॉटी की और पापा का लंड चूसती रही.

हिंदी बीएफ पेली पेला बापू के कपड़े धोना, खाना पकाना, खाना परोसना और सब वह काम जो उसकी माँ बापू के लिए करती थी, वह सब पद्मिनी बहुत प्यार से करती थी. साथ ही उसने मेरा लंड भी अपने मुँह से निकाल दिया और मेरे ऊपर ही लेटी रही.

भाभी सेक्सी वीडियो हिंदी

मैं मना करने लगी वो नहीं माना।वो मुझे पकड़ कर किस करने लगा, मेरी साडी उतार दी, ब्लाऊज के ऊपर से मेरी चूचियों को दबाने लगा. भारतीय नारी जल्दी लंड को मुँह में नहीं लेती है, ये बात मैंने पढ़ी थी. मैंने नीचे को आकर दीदी की हल्की झांटों वाली चुत पर अपना मुँह लगा दिया.

इस तरह से पूरी रात उससे अपनी चूत को चुदवाती रही और उसे पूरा खुश करती रही. मैंने धीरे से उनकी सलवार भी खोल दी और पेंटी को भी उसके साथ ही उतार दिया. नंदू सेक्सीमेरी चुत अब तक दोनों के लौड़ों से चुद कर बहुत मस्त हो गई थी और बहुत पानी छोड़ रही थी.

कुछ ही देर में अलीगढ़ आने वाला था, तो वो बोली- राहुल, हम स्टॉप से पहले उतर जाते हैं.

मैं सोच रहा था कि क्या दरवाजा अन्दर से लॉक होगा?फिर मैंने सोचा अगर खुला होगा तो सीधा अन्दर चला जाऊंगा, जो होगा देखा जाएगा. फ़िर बड़ी चाची ने हंस कर छोटी चाची के दोनों चूचे अपने मुँह में भर लिए और चूसने लगीं.

लेकिन तभी सोचा कि राज के घरवाले होंगे घर में… मैं बोली- तुम्हारे घर वाले?वो बोला- चल तो सही… वो क्या है ना कि आज मैं अकेला ही हूँ, घर वाले बाहर गये हैं, 2 दिन बाद आयेंगे. फिर मैंने भी अपनी जींस और अंडरवियर खोल दी, तो मेरा खड़ा लंड देख कर वो बोली कि ये तो मेरे उनसे काफी बड़ा है. उसके एक एक हाव भाव को, उसकी चाल को, उसके बदन के हर एक अंग को बड़े गौर से देख रहा था और अपने बेसाख्ता अकड़े हुए लौड़े को गहरी गहरी साँसें लेकर बिठाने की चेष्टा कर रहा था.

मैंने पूछा- सच बोल रही हो?वो ये सुनकर तुरंत ही मेरे होंठों पर टूट पड़ी और बोली- मेरी जान.

पद्मिनी मंत्र मुग्ध होकर उसके लंड और उससे निकलने वाली सु सु को देख रही थी. इस पकड़ धकड़ में मेरा हाथ उसके मम्मों से बार बार टकराया और मुझे बहुत मज़ा आया. मैं उछल उछल पड़ती थी, जाने क्या हो रहा था, मुझे कुछ समझ नहीं आ रहा था.

पोर्न वीडियो एचडी सेक्सउसके बाद मैंने बाथरूम में जाकर पेशाब की और उसके बाद मैं दुबारा बिस्तर पर आकर लेट गयी, तब मेरी सहेली का भाई दुबारा मेरी चूत को चाटने लगा और उसके बाद मैंने भी उसका लंड चूसा और हम दोनों लोग ओरल सेक्स करने के बाद अलग हो गए. शाम को ऑफिस से आते वक्त उनके घर गया तो पता चला… गाँव में कोई बीमार है तो बच्चे और उसके पति 10-12 दिन के लिए गाँव गए हैं.

दिल्ली का कुतुब मीनार देखो

आधा घंटे तक हमने बातें की होंगी कि भाभी ने अब अपनी गांड में उंगली करते हुए मुझे गांड मारने का इशारा दिया. बापू के लंड को चूसते हुए एक अजीब सा अलग सा मज़ा आ रहा था, जो उसने पहले कभी नहीं महसूस किया था. मैं थोड़ी देर तक कुछ और धक्के मारता रहा फिर इसके बाद मैंने अपने लंड का पूरा वीर्य उसकी गांड में ही छोड़ दिया.

तभी मौका देखते हुए मैंने भाभी के होठों पे किस कर दिया।शगुफ्ता भाभी घबरा कर एकदम से पीछे हो गयी और मेरा हाथ पकड़ लिया और मुझे घूरने लगी।मेरी भाभी की सेक्स कहानी के अगले भाग में पढ़ें कि कैसे मैंने पड़ोसन भाभी को प्रेम औरवासना के जाल मेंफंसा कर चोदा. मेरी चुत पूरी तरह से गीली हो गई थी, मैं भी जोश में आ गयी थी।उसने उसका लण्ड मेरे मुंह में दे दिया, मैं उसका लण्ड चूस रही थी, वो मेरे बूब्ज चूस रहा था।वह बोला- पूरा लण्ड ले ले!और जोर से एक झटका दिया, अपना पूरा लण्ड मेरे मुंह में घुसा दिया।फिर साथ ही वो मेरी चुत चाटने लगा. कुत्ते से चुदवा कर तुम्हारी डीवीडी बना लूँगा, जब कुत्ते का लंड चुत में जा कर फंसेगा तो उसकी गांड से तेरी गांड आगे पीछे हो जाएगी.

और बाद में मैंने उसकी फ्रेंड रिक्वेस्ट को एक्सेप्ट कर ली तो वो मुझे रोज खूब मेसेज करता था और मैं भी उससे कभी कभी बातें कर लेती थी. मैंने कहा- जागृति आंटी, मैं अपनी जिंदगी में पहली बार चुदाई कर रहा हूं, मुझे पूरे मजे लेकर चुदाई करनी है, मैं आज आपको बहुत चोदूंगा, चोद चोद के आपकी चूत फाड़ दूंगा. लेकिन जैसे जैसे बातें करते रहे, वैसे वैसे मुझे ख़ुशी अच्छी लगने लगी थी.

आप कितनी गन्दी गालियां लिखते हैं कहानी में… सिर्फ लिखने के लिए या असल ज़िन्दगी में भी गालियां देते हैं आप… कई गालियां तो मेरी समझ में भी नहीं आईं… और भी कुछ बातें समझ नहीं आईं. तुम्हारे दूध को पकड़ सकता हूँ?उसने कहा कि तुम पकड़े हुए ही हो और कैसे पकड़ना है?मैंने कहा- मतलब मैं इनको देख सकता हूँ.

ये इतना बड़ा कैसे हो गया है?मैंने उससे कहा कि तुम आराम से लंड को देखो.

मैंने ऐसे ही कोई एक मिनट तक उसे चाटा होगा कि उसकी कमर किसी खिलौने की तरह अपने आप उछलने लगी जैसे उसे कोई दौरा पड़ा हो और उसके मुंह से अत्यंत कामुक और उत्तेजना पूर्ण कराहें निकलने लगी- पापाऽऽ जी ईऽऽ जल्दी जल्दी चाटो!बस तभी मैं उनके ऊपर से हट गया. तमिल आंटी सेक्सी वीडियोउसके बाद बहुत बार प्रेरणा ने मसाज ले लिए बुलाया और मैंने प्रेरणा की बॉडी मसाज की और चुदाई भी की. मां की चुदाई सेक्सी वीडियोअगर मुझे पता होता कि वो भी मेरे लंड से चुदना चाहती हैं तो उसे तो कई बार चोद दिया होता. मुझे उनकी इस हरकत पे हंसी सी आ गई क्योंकि उनके उस हाथ में डिल्डो भी था और हाथ हिलाते हुए ऐसा लग रहा था, जैसे वो मुझे अपना डिल्डो दिखा रही हों.

जब मैं झड़ने के करीब आया तो मैंने ज्योति से कहा- अब मैं झड़ने वाला हूँ इसलिए बताओ ज्योति कि मैं कहाँ निकलूँ?तब तक काजल दीदी बीच में ही बोल पड़ी- वीशु, मेरे मुँह में झड़ जाओ.

मैं उससे चुदवा कर खुश थी और उसने मुझे चोद कर मुझे खुश कर दिया था, मैं उससे चुदवा कर एकदम तृप्त हो गयी थी. मैं उसे नंगे ही गोद में उठाकर बाथरूम ले गया और वहाँ पर पानी से उसकी चूत में उंगली डाल डाल कर उसकी चूत साफ की और फिर आधा घंटे रेस्ट किया ताकि काजल दीदी और कविता को चोद सकूँ. अंकल अब जब भी आते तो पहले मुझे ही चोदते थे, मेरे लिए ही तोहफे लाते थे तो मेरी माँ अब मुझसे जलने लगी थी, मुझे अपनी सौत मानने लगी थी.

प्रभा- मादरचोद आनन्द अपनी मम्मी को बीवी बनाया है, बच्चा टिका मादरचोद मेरी कोख में और अपनी बहन को बोल कि और कस के पेले मुझे!मैंने कहा- साली रंडी प्रभा, तेरी कोख में ही गिराऊंगा आज… जब तक तू मेरे बच्चे की माँ बन जाए!करीब आधे घंटे तक मैंने शीतल को चोदा इतने में शीतल का गर्म गर्म माल गिर गया, मैंने लंड निकाल लिया और शीतल को मम्मी के मुँह पे बैठ के चूत चटवाने को कहा. तब उसने बोला- आज तुमने मुझे बहुत खुश किया है, मैं अपनी खुशी से दे रही हूँ. भाबी पूरी गर्म हो चुकी थीं, उनकी आँखों मेंवासना की खुमारीसाफ़ देखी जा सकती थी.

अंग्रेजी फिल्म सेक्सी मूवी

मैंने उसके सिराहने पहुँच कर उसके गालों को एक हाथ से दबाते हुए पूछा- रानी कैसा लग रहा है?सुकन्या ने धीरे से बस एक ही शब्द कहा- अच्छा!ग्रीन सिग्नल मिलते ही मेरे हाथ उसकी कुछ कड़क कुछ नाज़ुक चूचियों को पकड़कर मसलने लगे, मरोड़ने लगे. दोस्तो! मेरा नाम राज शर्मा है। आज मैं आपके साथ मेरा एक और अनुभव शेयर कर रहा हूँ. फिर उसने थोड़ा पीछे को सरक कर अपने पांव मेरे कंधों पर जमा दिये और बाज़ू मेरे घुटनों पर.

वो भी गर्म हो गयी थी और जोर जोर से सिसकारियां ले रही थी कि राहुल अब मुझसे रहा नहीं जा रहा, जल्दी से डालो अन्दर.

एकता की चुत के रस से लंड को चिकनाहट मिल रही थी और लंड चिकना होकर गांड में चमक रहा था.

अन्दर जा कर मैंने जानबूझ कर दो तीन बार झुक कर उसको अपने मम्मों के दर्शन करवा दिए. रात को कैसे अपने लंड को उसने उसकी गांड के बीचों बीच रगड़ कर अपना पानी छोड़ा था. सेक्सीhindiमैंने उसके पैरों को फिर से ऊपर किया और पैरों को फैला कर उसके अन्दर जोर से धक्का लगाया, उसकी चीख निकल गई और वो रोने लगी.

वह मिटा सकें।”शाहिद भाई और शाजिया अप्पी यही तो कर रहे थे जब पकड़े गये थे, लेकिन उनकी आपस में शादी नहीं हुई थी तो इसीलिये तमाशा बन गया।”मुझे यकीन नहीं।” मैंने अविश्वास भरे स्वर में कहा।अच्छा डेमो दे के दिखायें? क्योंकि इस समय भी मुझे और अहाना दोनों को बुरी तरह खुजली हो रही है।”दिखाओ।”चल अहाना. मैंने उसको उठाया और सहारा देकर धीरे धीरे उसको उसके रूम में लेकर गया. जब चारों ने उसकी चुत की ज़मीन को अच्छी तरह से अपने लंड से सींच लिया तो बोले- जाओ अब चुत की सफाई करके आओ.

मैं भी उसकी चूत और चुचियों को मसलता रहा और उसके होठों को चूसता रहा. [emailprotected]भाभी सेक्स स्टोरीज का अगला भाग:भाभी के जिस्म की चाहत-2.

मैंने फूल सी नाज़ुक अलका को बाँहों में उठा लिया और उसको दीवान की तरफ ले चला.

मैं चुपचाप नींद से उठने का बहाना कर उनके रूम से निकल कर मेरे रूम में आ गया और उनके नाम की मुठ मार के सो गया. एकता भी मेरी तरह निरीह भाव से देखने लगी तो डॉली ने कहा- अरे मैं हूँ ना हेल्प के लिए. पीयूष बोला- अभी नहीं वन्द्या, पहले तुम अच्छे से तैयार हो जाओ, दुल्हन बन जाओ.

सोनी एक्स एक्स एक्स प्रेरणा मुझे घूरे जा रही पी और साथ में कातिलाना स्माइल भी दे रही थी. पिछली स्टोरीहोटल की ट्रेनी रिसेप्शनिस्ट को चोदा-1होटल की ट्रेनी रिसेप्शनिस्ट को चोदा-2में मैंने बताया था कि एक एमएनसी में काम करते हुए मुझे बहुत अधिक टूर पर रहना पड़ता है.

कई बार ऐसे समय में मेरा मूत भी निकल जाता था मगर वो मुझे उठने नहीं देता था और मेरा मूत भी हजम कर लेता था. पूजा, अगर तुम्हें सही लगे तो क्या हम एक दूसरे के काम आ सकते हैं?पूजा बोली-पापा जी, मैं कुछ समझी नहीं?ससुर बहू की कामुकता और चुदाई की हिन्दी सेक्स कहानी जारी रहेगी. मैं दर्द से निजात पा चुकी थी और मज़े से भर कर भाईजान से बोली- हाय भाई.

செக்ஸ்ய் வீடியோ கேரளா

वो मुझसे खुल कर सेक्स की बात करने लगी उसे और मुझे ऐसी बात करने में बहुत मज़ा आता था. उसकी चूत पर उंगली रखी और ऊपर से उसे सहलाया तो वो फिर से चिंहुक उठी. मैं तो होश में नहीं था करीब दस मिनट से ज्यादा की एकता की गांड चुदाई के बाद मैंने उसे ऊपर से हटाया और डॉली को बेंच पर लेटा दिया.

दर्द हुआ तो उसकी आँखों में से पानी आने लगा था और वो कहने लगी- प्लीज मुझे छोड़ दो. भाबी ने मुस्कुरा कर मेरा हाथ पकड़ा और अपनी तरफ खींचते हुए कहा- बंदी हाजिर है… ले लीजिए.

लेकिन मेरा अभी बाकी था, तो उन्होंने बोला- तुम नीचे हो जाओ, मैं ऊपर आती हूँ.

मैंने अपनी वाइफ से बोला- साली… कितने लंड लेगी अपनी चुत में… एक लंड ने तो तेरी चुत फाड़ दी. सुडौल मांसल उंगलियां, सुन्दर तराशे हुए नाख़ून!!! उम्मम्मम आआआआ… बहनचोद!!! मुंह में पानी भर आया. अब मुझे उम्मीद हो चली थी कि सोनिया की चूत अब मेरे लंड से ज्यादा दूर नहीं है.

मैंने अपने लंड पर थोड़ी वैसलीन लगाई और सोनिया की दोनों टांगें ऊपर उठाकर चुत के छेद पर लंड सैट करके जोरदार धक्का लगा दिया. मैंने उससे कहा- मैं वो सब कुछ करूँगी, जिससे मेरे पति की बहन और माँ को चुदवा कर उनकी फिल्म बना लूँ. कितनी जगह है इस छोटी सी बुर में?रेखा रानी ने प्यार से एक चपत मुझे लगायी- मूरख चंद… सर्प शांत होकर छोटा हो गया ना तो बन गई जगह… बहुत आनन्द आया राजे… बरसों की आग बुझ गई.

मैं अपना हाथ नीचे उनकी नाभि से होते हुए चूत तक ले गया और सलवार के ऊपर से ही उसे दबाने लगा.

हिंदी बीएफ पेली पेला: महिला का नाम शबनम है और उसके शौहर दुबई के किसी अच्छी कंपनी में जॉब करते हैं, सो उसका यहां आना साल दो साल में एकाध ही बार हो पाता है. मेरा लंड उसकी चूत के छोटे कांटे जैसे बालों को टच कर रहा था मानो किसी कंटीले पार्क में हो.

मैंने नोट किया कि वह मोटर साइकिल सोसाइटी में से तो किसी की नहीं है. अदिति ने उन्हें फोन कर दिया था तो वे होने वाली बहू की पायल दूसरी खरीद लाये थे. जैसे कैसे मैंने उसके मन में पराये आदमी से चूत चुदाई की बात बैठा दी.

नींद तो कामिनी को भी नहीं आ रही थी तो वह मेरे साथ मस्ती करने लगी, वो मुझे यहां वहां छूने लगी, बहन की शरारतों से मुझे गुदगुदी होती थी.

मैंने एक देवर भाभी सेक्स स्टोरी की एप अपने मोबाइल में डाउनलोड की और चुपके से ये एप भाभी के मोबाइल में भी डाल दी. वो मुझे बताती थी कि कैसे उसकी सहेली ने अपने बॉयफ्रेंड से सेक्स किया, उसकी सहेली का बॉयफ्रेंड उसकी चुत को चाटता था. उसने और जोर से मम्मों को दबाया और गीता की और चीखें निकलवाता रहा और जल्दी से अपना लंड उसकी चुत में पीछे से ही घुसेड़ दिया.